रात न जाने क्यों हर रोज करवटें बदलती है ,
ये कौन-से ख़्वाब हैं जो इसे सोने नहीं देते ।

कौन-सी प्रवंचनाएं पलती हैं इसकी पलकों में ,
बेचैनियों के कौन-से समंदर इसे सोने नहीं देते।

जाने किसको वीराने में देखती है यह अपलक ,
आरजुओं के कौन-से धुंधलके इसे सोने नही देते।

जब दर्द भी गहराइयों में सो जाता है बेसुध होकर ,
कौन-सी अंधी चाहत के बुलबुले इसे सोने नहीं देते।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s