किनारे सदियों से रहते हैं शान्त , अविचल , बेबस ,
देखते रहते हैं गतिमान जल-धारा का अविरल प्रवाह !
सुनते रहते हैं किसी कालजयी विवशता के वशीभूत ,
अजन्मी उच्छृंखल लहरों के वेगयुक्त भीषण निनाद !

किनारे कदाचित भिज्ञ हैं अपनी इस शापित नियति से ,
नहीं कहते कुछ भी इस मनचली-इठलाती जल-धारा से !
जो इसके अंतस की गहराई में पलते दुःख से अनजान ,
अपनी अठखेलियों से हर रोज़ करती है भीषण निनाद !

पल-भर के संयोग के बाद दूर जाती इस जल-धारा को ,
किनारों की फटी आँखों से की गयी मौन-आर्त पुकार ,
बस थम जाती है कुहासे की किसी बेकसी में उलझकर ,
थामे किसी बूढ़े माझी की तरह प्रवंचनाओं की पतवार !

अनन्त काल से निरंतर चल रहा है यह दारुण विछोह ,
मानो करना चाहता हो मानवता से यह शाश्वत उद्घोष ,
जड़ता और स्थिरता में भले ही हो कितना भी आकर्षण ,
जीवन-प्रवाह नहीं कर सकता अंगीकार उनका उत्कर्षण !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s