जितने दिन उनके ग़म भुलाने में लगे ,

उतने बरस ये वक़्त गुज़ारने में लगे !

आँधियों का क्या वो आती-जाती रहीं ,

ज़माने खुशियों के ख़्वाब आने में लगे !

जिन गुलों को खिलाया लहू से अपने ,

चन्द लम्हे उनकी ख़ाक उड़ाने में लगे !

याद आयी जब नौबहार की बादे-सबा ,

तब लब-ए-ख़ामोश मुस्कराने में लगे !

बेगानाए-एहसासे-जमाल बेख़बर रहा ,

कितने दिलनशीं उसकी चाहत में लगे !

वक़्त बदला या उसकी रवायतें बदलीं ,

हमनशीं ही दिल में नेज़े चुभाने में लगे !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s