मेरी ख़ामोश सदायें तो बहुत दूर तक गयीं ,

उसे बेख़बर ही रहना था वो बेख़बर ही रहा !

जो मोतबर हुआ मेरे काँधे पे सफ़ीना रखकर ,

शोहरत के बाज़ार में दिल-आज़ार ही रहा ।

हवाओं में एक पैग़ाम था जो मुझे छूता रहा ,

एक साया मेरे ज़ेहन में बहुत देर तक रहा !

गुज़रती रही ज़िन्दगी ख़िलवते-ग़म के साथ ,

जो शख़्स राहबर बना गुमराह करता रहा !

जाने क्यों धड़कनें तमाम उम्र बेचैन सी रहीं ,

वो कौन मुन्तज़िर था जिसका इंतज़ार रहा !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s