जहाँ कभी रोशनी का परचम था ,
वहाँ धड़कनों में सुलगते हैं रूह के ग़म ,
अँधेरों के किरदार अक्सर खेलते हैं ,
रात के रूखे-सूखे पत्तों से ,
बेनूर हसरतें पहरा देती हैं ,
अश्कों के रिसते कतरों का ,
कुछ बासी लम्हे रुककर देखते हैं ,
जिस्मों के ईंधन में तपे रिश्तों को ,
चाँद बादलों से झाँककर ,
कभी-कभी रोशन कर देता है ,
उस चरमराती चहारदीवारी को ,
माज़ी रूबरू दिखाई देता है ,
उस वीरान सी हवेली में !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s