बादलों का क्या ये तो  बे-मौसम भी चले आते हैं ,
कभी बरसते हैं कभी बरसने का झाँसा दे जाते हैं !

इन्हें यक़ीं है कोई इनसे ज़िरह कभी नहीं करेगा ,
इसीलिए आँधियों के साये में बरबादी दे जाते हैं !

अपनी शौक़े-फ़ितरत में ये बेख़ौफ घूमते रहते हैं ,
अपने ज़ुल्मों-सितम से ये बेपनाह दर्द दे जाते हैं !

इनकी तुनक-मिज़ाजी की बातें भला किससे करें ,
अक्सर किसी बेवफ़ा की तरह ये ज़ख़्म दे जाते हैं!

कड़ी मेहनतक़शी सजाती है जिन आँखों में सपने ,
अपनी आवारगी से उन्हें लहू के अश्क दे जाते हैं !

बादलों का क्या ये तो  बे-मौसम भी चले आते हैं ,
कभी बरसते हैं कभी बरसने का झाँसा दे जाते हैं !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s