मैं  बूँद-बूँद  तपिश और  बेचैनियों  की आस ,
मैं आँसुओं की चुभन और मिलन की सुवास !
मैं आरज़ुओं की कसक और ज़र्रा-ज़र्रा प्यास ,
मैं प्यार की कशिश और माज़ी की अरदास !
मैं चाहतों की ख़लिश और मंजिलों का हवास ,
मैं ज़ीस्त का समन्दर और लहरों का एहसास !
जी चाहे जितना  मेरा अब तू इम्तिहान ले ले ,
तू झुका न सकेगा मुझको ये है मेरा विश्वास !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s