बेख़ौफ़ हवायें ये ज़ुल्म हर रोज़ किया करती हैं ,
मेरे दरवाज़े को अक्सर  दस्तक दिया करती हैं !
सरसराहट सी होती है इन खिड़कियों में अक्सर ,
जाने कौनसी आरज़ू लिए नेज़े सी चुभा जाती हैं !
सियहरात के अँधेरों में जब बेचैनियाँ मचलती हैं ,
ये अपनी बेबाकियों से दुश्वारियाँ किया करती हैं !
नहीं मालूम मेरे माज़ी को क्या बयाँ करना है इन्हें ,
जो रोज़  मेरी दहलीज़  को सदायें  दिया  करती हैं !
न जाने कितने लम्हों को अपने नज़दीक बुलाकर ,
ये  दिल के सफ़ों  पे कोई  इबारत  लिखा करती हैं !
बेख़ौफ़ हवायें ये  ज़ुल्म हर  रोज़ किया करती हैं ,
मेरे  दरवाज़े को अक्सर  दस्तक  दिया करती हैं !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s