कभी पगडंडी भी अक्सर हालेदिल पूछा  करती थी ,
अब तो ये सड़क  बेरुख़ी से  नज़र चुराती  रहती है !
कभी वो  कुआँ रोज़ पानी  के लिए बुलावा देता था ,
अब तो पानी की ख़ातिर ज़िद्दोजहद लगी रहती है !
कभी  बावड़ी और तालाबों का ख़ुशनुमा मंज़र था ,
अब पथरीली इमारतों में साँसों की घुटन रहती है !
कभी बरसाती फुहारों में झूलों की मस्ती रहती थी ,
अब बारिश में भीगने को ज़िंदगी तरसती रहती है !
कभी बासंती हवाओं के झोंके मनुहार किया करते थे ,
अब  चाँदनी भी  बंद कमरों को दस्तक देती रहती है !
कभी घूँघट से चाँद दिलकश सदायें दिया करता था ,
अब तो बेनियाज़ी की बेबाक नुमाइश लगी रहती है !
कभी उस मुफ़लिसी से भी ख़ुद्दारी का गुमाँ होता था ,
अब तो  शानो-शौक़त  में भी रुसवाई छिपी रहती है !
कभी पगडंडी भी अक्सर हालेदिल पूछा  करती थी ,
अब तो ये  सड़क बेरुख़ी  से नज़र  चुराती रहती है !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s