यूँ ही तन्हाई में हम दिल पे सितम करते हैं ,
तुझको लिखते हैं मगर  उसको मिटा देते हैं !
ये तो सच है कि ज़िन्दगी दूर चली आयी हैं ,
फिर  भी माज़ी को हम अब  भी सदा देते हैं !
वो हवाएं तो अब गुलशन  में नहीं आती हैं ,
फिर भी जज़्बातों को हम यूँ ही हवा देते हैं !
वक़्त तो यकीं है परिंदों की तरह उड़ता है ,
फिर भी हसरतों को हम  पंख लगा देते हैं !
ये तन्हाई तो सरे-शाम यूँ ही चली आती है ,
फिर भी बेबसी को हम फ़साने सुना देते हैं !
यूँ ही तन्हाई में हम दिल पे सितम करते हैं ,
तुझको लिखते हैं मगर उसको  मिटा देते हैं !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s