आज फिर चाँद की पेशानी पे सिलवटें हैं ,
आज फिर लपटों में चाँदनी जली होगी ,
वक़्त किसी पेड़ के नीचे बैठा ,
अश्कों की चादर में सिमटा होगा ,
किसी तल-खोह-अँधेरे में अंधा कुआँ ,
अपनी बेबसी पर सिसक रहा होगा ,
रात पथराई आँखों में नमी तलाशती ,
गूँगी ख़ामोशियों से गुफ़्तगू कर रही होगी ,
दूर कहीं खुले आसमाँ के तले ,
हैवानियत के नशीले नेज़े से ,
फिर इंसानियत बेआबरू हुई होगी !
आज फिर चाँद की पेशानी पे सिलवटें हैं ,
आज फिर लपटों में चाँदनी जली होगी !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s