जीवन उतना लम्बा भी नहीं जितना हम उसे समझते हैं और यह उतना छोटा भी नहीं जितना उसे कभी-कभी हम बनाने की कोशिश करते हैं। इसलिए इसके हर पल को सजाना , संवारना और संजोना एक सहज आवश्यकता है। आश्चर्य है कि हम अपने जीवन में इस सत्य को कितना झुठलाते रहते हैं !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s