जाने कितने पैमानों से ज़हर पिया होगा ,
तब कहीं जाके वो मुक़द्दस बना होगा !

जाने कितने इम्तिहानों से गुज़रा होगा ,
तब कहीं जाके वो मुअल्लिफ़ बना होगा !

जाने कितनी रुसवाइयों से जूझा होगा ,
तब कहीं जाके वो मुअस्सिर बना होगा !

जाने कितनी ख़्वाहिशों को दफ़नाया होगा ,
तब कहीं जाके वो मुअज़्ज़िज़ बना होगा !

जाने कितनी ठोकरें वक़्त की खाई होंगी ,
तब कहीं जाके वो मुअक्क़र बना होगा !

जाने कितने मक़तबों में तालीम ली होगी,
तब कहीं जाके वो मुअल्लिम बना होगा !

कुछ तो `उसकी ‘ भी रहमत रही होगी ,
तब कहीं जाके वो रहनुमा बना होगा !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s