मदहोश हवाओं ने जो उसके दर पर दस्तक दी ,
वो कतरों में जी रहा था उसने ख़ुदकुशी कर ली !

उनको कोई इल्म न था अपनी महसूफ़ियत में ,
उसकी साँसें बेज़ार थीं मुफ़लिसी की गर्दिश में !

वो बेइंतहा मशग़ूल थीं अपनी शौके-फ़ितरत में ,
उसकी ज़िन्दगी खौफ़जदा थी फ़ना के मंज़र में !

हसीन नेज़े से वो तो सितम ढाकर निकल गयीं ,
एक बेज़ार सी ज़िन्दगी को ज़मीदोज़ कर गयीं।

वहाँ  हालत  ने भी  नसीहतों की चूनर लपेट ली,
वक़्त  ने फिर  मजबूरी  की  नई चादर ओढ़ ली !

मदहोश हवाओं ने जो उसके दर पर दस्तक दी ,
वो कतरों में जी रहा था उसने ख़ुदकुशी कर ली !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s