हमें ये इल्म है हमने ढेरों नसीहतें दी है ,
ख़ुद अमल करने का हौसला नहीं होता।

हर रोज़  ग़ैरों  को आइना दिखाते हैं हम ,
ख़ुद से बात करने का हौसला नहीं होता।

बेपनाह मंज़िलों की ख़्वाहिश लिए हैं हम ,
पर ख़ुद पे ऐतबार का हौसला नहीं होता !

वो बेपर्दा हो इसी आरज़ू में मशग़ूल हैं हम ,
इसका सिला  झेलने का हौसला नहीं होता।

अपनी फ़ितरत का यूँ ही मज़ा लेते हैं हम ,
ये  ग़ुनाह  क़ुबूलने का  हौसला नहीं होता !

One thought on “बेख़ुदी :

Leave a Reply to adgaly Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s