सिर्फ़ इस बिनाह पर कि तूफान का अन्देशा है ,
सब खिड़कियाँ बन्द कर लो ये भी कोई बात है !

उसे तो इम्तिहान लेने की शौक़े – फ़ितरत है,
तुम नाउम्मीदगी में जियो ये भी कोई बात है !

ज़िंदगी कभी-कभी तन्हा भी गुजारी जाती है ,
ख़ुद को शराबों में डुबो दो ये भी कोई बात है !

यहाँ बाज़ी कभी जीती तो कभी हारी जाती है ,
मंज़िलों की आरज़ू न करो ये भी कोई बात है !

सिर्फ़ इस बिनाह पर कि कल शायद न रहो ,
आज जी भर के न जियो ये भी कोई बात है !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s