आज वो फिर किसी फुटपाथ पे सोया है ,
सबके नसीब में घर की छत नहीं होती !

वो अपने घुटनों को मोड़ सिकुड़कर सोया है ,
सबके नसीब में ओढ़ने को चादर नहीं होती !

वो तो रातभर तन्हाई में करवट बदलता है ,
सबके नसीब में काँधे की सिहरन नहीं होती !

उसको बदनसीब कहें या कोई और नाम दें ,
सबके नसीब में मय भी मयस्सर नहीं होती !

वो बिना किसी परवाह के बेख़ौफ़ सोया है ,
सबके नसीब में लुटने को दौलत नहीं होती !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s