मेरा दरवाज़ा खुला है ,
कभी यूँ ही आओ तुम !
सुवासित वासन्ती हवाओं की तरह ,
गुलशन में महकते गुलों की तरह ,
उत्ताल-तरंगों की तान-धुन की तरह ,
वृष्टि को मचलते मेघों की तरह ,
मदमत्त रिमझिम बारिश की तरह ,
किसी किरणीली भोर की तरह ,
दीवार से आँगन में उतरती धूप की तरह ,
सजी-सँवरी श्यामल साँझ की तरह ,
शीतलता बिखेरती धवल चाँदनी की तरह ,
प्रेमातुर ताराकिणी निशा की तरह ,
छत पर आते परिंदों की तरह ,
या फिर सिलवटें खोलती ,
माज़ी की लकीरों की तरह !
मुझसे बिना कुछ पूछे ,
मुझे बिना कुछ बताये ,
यह दरवाज़ा खुला है ,
यूँ ही कभी आओ तुम !

One thought on “कभी आओ तुम !

Leave a Reply to nitishadhana Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s