रोज़ देखता हूँ तन्हा चाँद को ,
नीरवता भरे सन्नाटे में ,
अपनी धवल दीप्ति से बेखबर ,
नभ में टँगे तारागणों के बीच ,
किसी आकाशगंगा के किनारे ,
अपनी छोटी सी पेशानी पर ,
जन्मों की अतृप्ति की सिलवटें सँजोये ,
वितृष्णा की गाथा का ,
न जाने कौनसा अध्याय लिखते ,
एक अंतहीन यात्रा में ,
धुँधलाती सी उसी राह पर ,
घुटनों-घुटनों चलते हुए ,
किसी उद्विग्न शिशु की तरह !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s