फागुन की बयार उड़ाती मतवाले रंग होली के ,
ढोल , मृदंग संग पैजनियाँ गाती गीत होली के !

अल्हड़ युवतियाँ छेड़ें मधुरिम संगीत होली के ,
पिचकारियों से भीगती चूनर करें नृत्य होली के !

होठों की लालिमा गालों में भरती रंग होली के ,
मतवालों की चिरौरियाँ करती हुड़दंग होली के !

वासंती रंगों की बारिश करती गुणगान होली के ,
साँवले साँवरिया भी लगें गुलाबी लाल होली के !

नखरीली सरसों अलसी से करे उपहास होली के ,
गेंहूँ की मनोरम बालें सुनायें मधुर गान होली के !

खेत और खलिहान बिखेरें यौवन-रंग होली के ,
समूची प्रकृति स्पंदित हो करे मनुहार होली के !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s