वो रोज़ दबे पाँव दस्तक देता है ,
मुस्कराता है और चला जाता है !
बुलाता है मेरे माज़ी को हौले से ,
बुदबुदाकर वो कहीं खो जाता है !

ढूँढ़ता रहता हूँ उसे बेचैनियों में ,
अंतस को चीरती थकी साँसों में !
ठहरे हुए कुछ क्लांत से पलों में ,
या फिर दीवार पर टँगे चित्रों में !

फिर यूँ ही अनमना सा देखता हूँ ,
बेज़ार से दिखाते इन दरवाज़ों को !
या फिर झाँकता हूँ खिडकियों से ,
इन दूर जाते बियाबान रास्तों को !

चाहकर भी उसे रोक नहीं पाता ,
मनुहार को निष्प्राण कर जाता है !
इस बेकसी से अठखेलियाँ करके ,
मेरी दहलीज़ लाँघ चला जाता है !

वो रोज़ दबे पाँव दस्तक देता है ,
मुस्कराता है और चला जाता है !!

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s