जिंदगी बहुत चाहा मैंने कि तेरी सिलवटें खोल दूँ ,
पर तू तो बेगानों की तरह और भी उलझती गयी।

बहुत चाहा नयनों में काजल की तरह सजाऊँ तुझे ,
पर तू तो सियहरात बनके सपनों को छलती रही।

बहुत चाहा उषा की लालिमा की तरह संवारूँ तुझे ,
पर तू तो विकट विद्युल्लता बन भय दिखाती रही।

बहुत चाहा सावन की फुहारों से सिंचित करूँ तुझे ,
पर तू तो निदाघ की ऊष्मा बन मुझे जलाती रही।

बहुत चाहा स्वप्नों की सुकुमारता से सजाऊँ तुझे ,
पर तू तो छलनामयी प्रवंचनाएं लिए सताती रही।

जिंदगी बहुत चाहा मैंने कि तेरी सिलवटें खोल दूँ . . .

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s