वो साथ रहता था धड़कनों की तरह ,
और दूर जाता था ख़्वाबों की तरह।

उसकी खुशबू थी खुशरंग गुलाबों की तरह ,
और महकता था वासंती हवाओं की तरह।

उसका अक़्स टकराता था लहरों की तरह ,
और खो जाता था आँखों में सपनों की तरह।

उसकी आँखें बोलती थीं समंदर की तरह ,
और बेचैनियां थीं सावन की घटाओं की तरह।

वो जाने क्यूँ रहता था अजनबी की तरह ,
पर समाया था मुझमें श्वासों की तरह।
वो साथ रहता था . . . . . . . . . . . . . .

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s