कौनसे अजनबी वो मेरे स्वप्न थे ,
आसमानों से मनुहार करते रहे ,
तेज हवाओं के झोंके बनकर जो ,
मुझसे मेरी जमीन ही छुड़ाते रहे !

अजनबी शहर की तपिश में भी ,
उन्हीं रिश्तों-नातों को ढूँढा किए ,
कितने ही नकाबों में लिपटे हुए ,
जो हर रोज़ छलावे करते रहे !

हवाओं का रुख भी बदलता गया ,
रुतों की करवटें भी बदलती गयीं ,
और सूखी टहनियों में आस लिए ,
कोपलों के दिवास्वप्न बुनते रहे !

ज़िन्दगी सिलवटों में उलझती रही ,
ख़्वाब बुनती रही दंश सहती रही ,
और उस बियाबान मरुस्थल में भी ,
सूखी रेत के ही घरोंदे बनाते रहे !

ये तो मालूम था प्रश्न होंगे अनेक ,
दिल को घेरेंगे और टीस देंगे मगर ,
कौनसी ज़िद में मन की वीणा लिए ,
चोट खाते रहे और गुनगुनाते रहे !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s